हमें चाहने वाले मित्र

23 सितंबर 2017

एक अकेले राहुल गाँधी ने

एक अकेले राहुल गाँधी ने ,,,साहिबजी की अब तक की अरबो ,,खरबो रूपये की सरकारी यात्राओं पर अपनी लोकप्रियता का वज़न साबित कर दिया है ,,जबकि विदेश में राहुल गांधी का हर भाषण साहिबजी के सभी जुमलों पर भारी साबित हुआ है ,,राहुल गांधी की इस परफॉर्मेंस से साहिब जी के अंध भक्त घबरा गए है ,,उनके खिलाफ पार्टी के दो दर्जन से ज़्यादा वरिष्ठ नेता ,,,ज़र खरीद गुलाम पत्रकार ,उनके न्यूज़ चैनल ,सोशल मीडिया के गुलामों को लगाया है ,,,लेकिन यह पब्लिक है सब जानती है ,,,जी हाँ दोस्तों अभी राहुल गांधी विदेश यात्रा पर है ,,उन्होंने भारत के हर मुद्दे पर तार्किक जवाब दिया है जिसे विश्व के मीडिया ने स्वीकार किया ,,अप्रवासी भारतीयों के योगदान पर ,,उनकी परिभाषा जो राहुल गांधी ने समझाकर नेहरू ,,गांधी ,,पटेल ,,अम्बेडकर भारतीयता के प्रति समर्पण के साथ जोड़ा है उससे अप्रवासी भारतीयों में भारत के प्रति निवेश ,,समर्पण का भाव और मज़बूत हुआ ,है ,,अप्रवासी भारतीय राहुल गाँधी के उदबोधन से गद गद है ,,,,उनके हर भाषण की प्रासंगिकता ,,लॉजिक को भारतियों ने सराहते हुए ,,साहिब जी के भाषण पर सो सुनार की एक लुहार की कहावत बताकर ,,उसकी प्रशंसा की है ,,,लेकिन कुछ है जो भड़क रहे ,है ,तिलमिला रहे है ,,शायद वोह समझ गए है ,,उनके जुमलों की देश ,,देश की जनता के दिलों से ,,देश के लोकतंत्र से रवानगी के लिए उलटी गिनती की शुरुआत हो गयी है ,इसीलिए शायद यह बोखलाहट है ,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

ट्रिपल तलाक़ ,,गौ रक्षा ,,कश्मीर ,,आतंकवाद ,,असहिष्णुता

ट्रिपल तलाक़ ,,गौ रक्षा ,,कश्मीर ,,आतंकवाद ,,असहिष्णुता ,,हिन्दू मुस्लिम ,,,कट्टरवादिता ,,,गाली गलोच ,,,राम रहीम ,,,हनीप्रीत ,,,फिर आगे न जाने क्या क्या ,,,मीडिया खरीदोगे ,,,,,नहीं तो ,,भूख ,,गरीबी ,,रोटी ,,रोज़ी ,,रोज़गार ,,मुद्रा अवमूलयन ,,राष्ट्रीय विकास ,,औद्योगीकरण ,,,सियासी लोगो के अपने क्षेत्र में उपेक्षा पर ,,मीडिया में चर्चा होती ,,लेकिन मुंह बंद ,,ज़ुबानों पर ताले,, और मुद्दे चांदी के जुटे से चीखों चिल्लाओ ,,जनता को गुमराह करने के लिए ऐसे ही टालों ,,वाह मिडिया जी वाह ,,अजीब है आप ,,पेट भरा हुआ ,,पद्मभूषण मिल गया ,,रोज़गार मिल गया ,,करोडो करोड़ के विज्ञापन मिल गए ,,केजरीवाल को गिरा दिए ,बाबा अन्ना से लोकपाल पर सवाल नहीं किया ,,स्वदेशी बाबा रामदेव से पन्द्राह लाख रूपये करोडो रोज़गार के बारे में जो वायदा उनसे गडकरी साहिब ने किया था उस पर सवाल नहीं किया ,,,आदरणीय मोदी जी को उनके चुनाव के पहले आपकी अदालत में बुलाकर जो वायदे करवाए थे ,,जो सब्ज़ बाग़ दिखाए थे ,,तीन साल की कामयाबी के नाम पर उन्हें उसी अदालत में बुलाकर एक भी उपलब्धि एक भी वायदे वफ़ा के बारे में जनता को नहीं बताया ,,,,अब तो खुद को पत्रकार ,,खुद को मीडिया कहना बंद करो ,,बस बिजिनेस मेन ,,बिकाऊ ,,क़लम बिकती है बोलो खरीदोगे के नारे ज़ोर से बोलो व्यवसाय खूब करो ,,देश को खूब ,लूटो,,जो सच बोले ,,जो सच लिखे उसे या तो मार दो ,,या जेल में डाल दो ,बिके तो ठीक वर्ना उसका अस्तित्व खत्म कर दो ,,वाह जी वाह ,,लेकिन यह पब्लिक है सब जानती है ,,अभी नहीं समझ रही तो क्या ,,फिर सब मानती है ,,,, ,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

साहिब यह साहिब है ना ,,,

साहिब यह साहिब है ना ,,,अफगानिस्तान से अचानक ,,शरीफ की अम्मीजान के लिए साडी ,,बिटिया के लिए शादी का तोहफा लेकर पाकिस्तान गए थे ना ,,जब उन्हें दाऊद जो उस कार्यक्रम में उपस्थित था ,,मिला या नहीं ,,,कह नहीं सकते ,,,लेकिन इन दिनों के आसपास दाऊद की पत्नी मुम्बई आई ,,,ठहरी और बढे आराम से चली गयी ,,,खेर हमारे देश की वोह मुजरिम नहीं थी ,,इसलिए हमने उसका कुछ बिगाड़ा नहीं ,,लेकिन बिकाऊ मीडिया ,,जो ज़र्रे जरररे की खबर रखने का दावा करता है ,,,हर पाकिस्तानी घटना की ,,हर क़दम की इस मीडिया को पहले से ही पता रहता है ,,ज़रा पता किया जाए ,,पुलिस के लोगो ने ,स्थानीय नेताओं ने ,,सरकार के अमले ने ,,दाऊद की पत्नी के भारत में आने ,,यहां आकर रहने की खबर ,,भारत की जनता से क्यों छिपाई और ,,भारत के इस बिकाऊ मीडिया ने इस खबर को छुपाने के लिए क्या फील गुड किया ,,,,,अख्तर

क़ुरान का सन्देश

हर तरह की तारीफ ख़ुदा ही को (सज़ावार) है जिसने अपने बन्दे (मोहम्मद) पर किताब (क़ुरान) नाजि़ल की और उसमें किसी तरह की कज़ी (ख़राबी) न रखी (1)  बल्कि हर तरह से सधा ताकि जो सख़्त अज़ाब ख़ुदा की बारगाह से काफिरों पर नाजि़ल होने वाला है उससे लोगों को डराए और जिन मोमिनीन ने अच्छे अच्छे काम किए हैं उनको इस बात की खुषख़बरी दे की उनके लिए बहुत अच्छा अज्र (व सवाब) मौजूद है (2)
जिसमें वह हमेषा (बाइत्मेनान) तमाम रहेगें (3)
और जो लोग इसके क़ाएल हैं कि ख़ुदा औलाद रखता है उनको (अज़ाब से) डराओ (4)
न तो उन्हीं को उसकी कुछ खबर है और न उनके बाप दादाओं ही को थी (ये) बड़ी सख़्त बात है जो उनके मुँह से निकलती है ये लोग झूठ मूठ के सिवा (कुछ और) बोलते ही नहीं (5)
तो (ऐ रसूल) अगर ये लोग इस बात को न माने तो शायद तुम मारे अफसोस के उनके पीछे अपनी जान दे डालोगे (6)
और जो कुछ रुए ज़मीन पर है हमने उसकी ज़ीनत (रौनक़) क़रार दी ताकि हम लोगों का इम्तिहान लें कि उनमें से कौन सबसे अच्छा चलन का है (7)
और (फिर) हम एक न एक दिन जो कुछ भी इस पर है (सबको मिटा करके) चटियल मैदान बना देगें (8)
(ऐ रसूल) क्या तुम ये ख़्याल करते हो कि असहाब कहफ व रक़ीम (खोह) और (तख़्ती वाले) हमारी (क़ुदरत की) निशानियों में से एक अजीब (निशानी) थे (9)
कि एक बारगी कुछ जवान ग़ार में आ पहुँचे और दुआ की-ऐ हमारे परवरदिगार हमें अपनी बारगाह से रहमत अता फरमा-और हमारे वास्ते हमारे काम में कामयाबी इनायत कर (10)

22 सितंबर 2017

एक नाम राजेंद्र सांखला ,,जो युवा नेतृत्व में कामयाबी का एक सबक़

अपने व्यवसाय ,,अपनी सियासत ,,जन सेवा ,,जनसंघर्ष ,,नेतृत्व क्षमता में कामयाबी का एक नाम राजेंद्र सांखला ,,जो युवा नेतृत्व में कामयाबी का एक सबक़ है ,, जनहित समस्याओं के निराकरण के लिए एक संघर्ष ,,,जो कभी छोटा सा पौधा था वोह ,आज एक छायादार वृक्ष बन गया है आज वोह खुद ,,कोटा शहर की प्रमुख समस्याओं को लेकर ,,प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य ,,राजेंद्र सांखला ,,, हाड़ोती विकास मोर्चा के नाम पर खुला संघर्ष कर रहे है ,,,,,जी हाँ दोस्तों शहर की हर प्रमुख समस्या और उनके निराकरण मामले में,,,अपनी पेनी नज़र रखकर ,,आवाज़ बुलंद करने वाले,,, राजेंद्र सांखला ने ,,,अपने इस विचार के समर्थन में क्रांतिकारी ,,,वफादार कार्यकर्ताओं की टीम तैयार करने में भी ,,,कामयाबी हांसिल की है ,,,राजेंद्र सांखला ने अपने संघर्ष ,,से ,,अपने व्यवसायिक समर्पण के ,साथ ,कामयाबी से ,,एक ,,कहावत ,,खुदी को कर बुलंद इतना ,,के हर तक़दीर से पहले ,खुदा बंदे से पूंछे तेरी रज़ा किया है को साबित कर दिखाया है ,,राजेंद्र सांखला ,,छात्र जीवन से ही ,,छात्र कांग्रेस के पदाधिकारी के रूप में ,,अधिकारियो ,,उनके परिजनों द्वारा सरकारी वाहनों के दुरुपयोग को रोकने का सफलतम अभियान चला चुके है ,,उन्होंने अस्पतालों की समस्याओं ,को लेकर ,अस्पतालों में खून बेचने के खिलाफ संघर्ष किया ,,जबकि चिकित्सको द्वारा ,सरकारी निर्धारित शुल्क से अधिक शुल्क वसूली के खिलाफ,,,, अभियान चलाकर ,,,चिकित्सको की लूट से आम जनता को बचाया ,,,राजेंद्र सांखला ने कॉलेज सहित ,,सभी छोटी बढ़ी शिक्षण संस्थाओ में ,,,छात्र छात्राओं से अवैध फीस वसूली के खिलाफ ,,आंदोलन छेड़ा ,,तो रोज़गार कार्यालय सहित ,,उद्योगों के खिलाफ स्थानीय लोगो को,,, रोज़गार देने का आन्दोलन मज़बूती से कामयाबी के साथ चलाकर ,,,कई बेरोज़गारो को रोज़गार दिलवाया ,,,,,राजेंद्र सांखला ने ,,,पुलिस थाने में निर्दोषो के साथ ज़्यादती करने वाले,,, पुलिस कर्मियों के खिलाफ खुलकर आवाज़ ,उठाई ,तो वक़्त ब वक़्त ,,शहर में पानी ,,बिजली ,,किसानो के लिए खाद ,,बीज ,,सिंचाई ,,गरीबो के लिए रोज़गार ,,कच्ची बस्तियों के नियमन ,,छात्र छात्रों से ट्यूशन के नाम पर की जा रही लूट के खिलाफ सैकड़ों आन्दोलन किये ,,राजेंद्र सांखला ने आंदोलन के साथ साथ ,मर्यादाओं का भी पूरा ध्यान रखा ,,इसी दौरान वोह कांग्रेस के युवा उत्साहित छात्र नेता से ,,युवा नेता और अब कांग्रेस के प्रदेश स्तरीय नेता बन गए है ,,राजेंद्र सांखला कांग्रेस में प्रदेश कांग्रेस कार्यकारिणी सदस्य है ,वोह कई मह्त्य्वपूर्ण पदों पर है ,,लेकिन उनके गॉड फादर ,उनके प्रेरक ,पथप्रदर्शक ,,,कोटा के विकास पुरुष ,,पूर्व मंत्री शान्ति कुमार धारीवाल है ,,जिनके लिए ,,राजेंद्र सांखला और उनकी टीम,,, एक जुट होकर ,,कुछ भी कर गुज़रने के लिए तैयार रहती है ,,सांखला ने अपने संघर्ष ,,अपने आंदोलन के साथ साथ ,,रोज़गार पर भी ध्यान दिया ,,स्वरोजगार व्यवस्था के तहत ,,खुद को स्थापित किया ,,एक आम आदमी से खास बनने की मशक़्क़्क़त कर सांखला ने ठेकेदारी ,व्यवसायिक गतिविधियों में भी खुद को कामयाब किया ,,लोगो से भी सम्पर्क रखा ,,कांग्रेस का एक सिपाही बनकर ,,आम लोगो के लिए संघर्ष भी किया ,तो वक़्त आने पर ,,आम लोगो के लिए संघर्ष के दौरान मुक़दमो का दर्द भी झेला है ,,राजेंद्र सांखला ने ,,,कांग्रेस समर्थित हाड़ोती विकास मोर्चा गठित किया ,,इस मोर्चे में कोटा की हर विधानसभा ,हर वार्ड ,,,हर भाग संख्या के सभी जाति ,,समाज ,,वर्ग ,,समुदाय के लोग शामिल है ,,इनके मोर्चे में स्त्री ,,पुरुष ,,बूढ़े ,,नौजवान सभी जुड़ गए है ,,हालत यह के ,,कोटा के किसी आंदोलन के वक़्त एक आवाज़ ,,एक संदेश पर गली ,,मोहल्लों से निकल कर ,, सेकड़ो लोग ,,राजेंद्र सांखला के साथ ,,कांग्रेस ज़िंदाबाद ,,करते हुए हर समस्या के समाधान के लिए किसी भी क़ीमत पर कुछ भी कर गुज़रने को तैयार रहते है ,,,हाल ही में राजेंद्र सांखला ने शहर में साफ़ सफाई ,गंदगी की समस्या को लेकर आंदोलन किया ,,नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष को कार्यभार ग्रहण नहीं करवाने के खिलाफ चेतावनी भरा संघर्ष किया ,,तो कोटा हेंगींग ब्रिज जो बनकर तो तैयार था ,,लेकिन बेवजह उद्घाटन में देरी किये जाने के खिलाफ संघर्ष किया ,, इस दौरान हेंगिंग ब्रिज की खराबियों की भी पोल खुली ,,पुलिस द्वारा दमनकारी निति के तहत ,,,जब राजेंद्र सांखला ,,इनके साथ ,हेंगिंग ब्रिज का निरीक्षण करने गए ,,,पूर्व मंत्री शान्ति कुमार धारीवाल सहित,,, कुछ लोगो के खिलाफ मुक़दमा दर्ज किया ,,तो राजेंद्र सांखला के समर्थको ने शहर की गलियों ,चोराहो पर कई हफ्ते तक प्रदर्शन किए ,,,राजेंद्र सांखला आज ,,कोटा कांग्रेस में एक कामयाब ,,संघर्ष शील ,,,युवा क्रांतिकारी नेतृत्व की पहचान बना चुके है ,,,,इनकी टीम ,,,इनकी टीम के संघर्ष के जज़्बे ,,इनकी टीम की निर्भीकता ,,क्रन्तिकारी आंदोलन शैली ,,,कॉग्रेस ज़िंदाबाद की वफादार सिपाही की भूमिका ,,इन्हे कांग्रेस के दूसरे नेताओं से जुदा और मज़बूत बनाती है ,,मेने इनका युवा कार्यकाल का संघर्ष का जज़्बा ,,इनके आंदोलन का तरीक़ा भी देखा है ,,और आज कुशल नेतृत्व में ,,गली ,,गली ,,मोहल्लों ,,वार्डों ,,सभी जगह इनके नेतृत्व में ,,कांग्रेस वफादार कार्यकर्ताओं की टीम ,,इनके हर मुद्दे पर सजग सतर्क होकर ,,आंदोलन ,,प्रदर्शन करने के तरीके से स्पष्ट है ,,के एक छात्र तरुण नेतृत्व जो आंदोलन का एक पौधा था ,आज वोह युवा बनकर ,,कांग्रेस के पक्ष में आंदोलनकारियों की टीम का एक कुशल नेतृत्व ,,कुशल कमांडर ,,एक वटवृक्ष बन गया है ,,राजेंद्र सांखला के इस ,जांबाज़ ,नेतृत्व ,,आंदोलनकारी स्वभाव ,,जनसमस्याओं के प्रति जागरूकता ,,निर्भीकता ,,निष्पक्षता और अपने कार्यकर्ताओं पर मर मिटने के जज़्बे को सलाम ,,सेल्यूट ,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...